'Letter to your father for bringing the money' in Hindi | 'Pita ko Rupaye Mangawane ke liye Patra'

Sunday, January 12, 2014

पिता को रुपये मंगवाने के लिए पत्र

महानगर बॉयज स्कूल
महानगर,
लखनऊ

पूज्य पिताजी,
सादर चरण स्पर्श।

आपका प्यार भरा पत्र 4 जनवरी को प्राप्त हुआ था। सभी समाचार ज्ञात हुए। पत्र का उत्तर शीघ्र न दे सका। कृपया क्षमा करें। मैं अपनी कक्षा के छात्रों के साथ कश्मीर के ऐतिहासिक पर्यटन पर चला गया था। यह जानकर आप अवश्य प्रसन्न होंगे कि मैंने कश्मीर घाटी के सभी सुन्दर, आकर्षक, मनोरम दॄश्य देखे। इनका वर्णन मैं अगले पत्र में करूँगा।

पर्यटन पर जाने के कारण आपका भेजा हुआ पैसा समाप्त हो गया है। कृपया और रुपये भेजने का कष्ट करें। पूज्य माताजी को चरण स्पर्श और वर्तिका को शुभकामनाएँ।

                                                                                                                               आपका आज्ञाकारी पुत्र
12 जनवरी, 2014                                                                                                                
XXX 

'Letter to your father for bringing the money' in Hindi | 'Pita ko Rupaye Mangawane ke liye Patra'SocialTwist Tell-a-Friend

5 comments:

Reshma Ulahannan March 16, 2017 at 8:59 AM  

meaningful letter feels some reality in the words

Reshma Ulahannan March 16, 2017 at 9:17 AM  

why should we waste time writing a letter??????????instead we can call father!!!

Satish sabal December 7, 2017 at 12:25 PM  

Ya but in exam we solve the paper in answer sheet instead of mobile phone

Post a Comment