Short Essay on 'Computer' in Hindi | 'Computer' par Nibandh (270 Words)

Tuesday, January 7, 2014

कंप्यूटर

आवश्यकता आविष्कार की जननी है। अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति लिए ही मानव हमेशा नवीनतम आविष्कार करता आया है। आज मानव समय और श्रम की बचत के साथ शुद्धता भी चाहता है। अत्यंत विकट समस्याओं को भी वह मशीनों द्वारा हल करना चाहता है। मानव की इसी आवश्यकता के फलस्वरूप 'कंप्यूटर' का आविष्कार हुआ।

कंप्यूटर की लोकप्रियता दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। कंप्यूटर मानव निर्मित यन्त्र है जिसका काम है अभिकलन व परिकलन करना। यह मनुष्य की अंक सम्बन्धी सूक्ष्म से सूक्ष्म एवं कठिन से कठिन समस्याओं को तुरंत हल कर सकता है।

आज देश के हर क्षेत्र में कंप्यूटर प्रणाली से काम लेने पर ज़ोर दिया जा रहा है। बस, रेलवे और हवाई जहाज का किसी भी शहर का आरक्षण किसी भी शहर से कंप्यूटर द्वारा संभव है। बैंकों के लिए कंप्यूटर सचमुच एक वरदान साबित हुआ है। कंप्यूटर की सहयता से एक मास में बनने वाला तुलन-पत्र मात्र कुछ घंटों में ही तैयार किया जा सकता है।

कई परीक्षा परिषदों और विश्वविद्यालयों द्वारा अपने परीक्षा परिणामों को तैयार करने में कंप्यूटर का प्रयोग किया जाता है। चुनावों के परिणाम, टेलीफ़ोन, बिजली, पानी आदि के बिल, भवन निर्माण के लिए नक्शा तैयार करने में भी कंप्यूटर महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। चिकित्सा के क्षेत्र में भी कंप्यूटर का विशेष योगदान है। कंप्यूटर से भेजे जेन वाले ई-मेल तथा इंटरनेट ने तो इस क्षेत्र में सूचना क्रांति ही ला दी है।

हम कह सकते हैं कि कंप्यूटर आज के मानव की एक जरूरत है। कंप्यूटर की उपयोगिता निर्विवाद है। किन्तु हमें पूर्ण रूप से यंत्रों पर ही निर्भर नहीं रहना चाहिए। हमें मशीनों का दास नहीं बनना बल्कि उन्हें अपना मित्र बनाना है।

Short Essay on 'Computer' in Hindi | 'Computer' par Nibandh (270 Words)SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment