'Letter to Superintendent of Police for restraining the Noise Pollution' in Hindi | 'Dhawni Pradushan ko rokne ke liye Police Adhikshak ko Patra'

Sunday, February 2, 2014


अपने घर के आस-पास के लाउडस्पीकरों के अनुचित प्रयोग से हो रहे ध्वनि प्रदूषण को रोकने के लिए पुलिस अधीक्षक को पत्र

सेवा में,
पुलिस अधीक्षक महोदय
हज़रतगंज,
लखनऊ।

महोदय,
निवेदन यह है कि आजकल लाउडस्पीकरों का दुरुपयोग इतना बढ़ गया है कि गलियों, बाज़ारों में हर समय इनके कारण शोर मचा रहता है। हर समय इन लाउडस्पीकरों पर अच्छे-बुरे फ़िल्मी गाने बजते रहते हैं।

इस प्रकार लाउडस्पीकरों का दुरुपयोग समाज के कई वर्गों के लिए बहुत हानिकारक है। अंतिम परीक्षाएं समीप आ गई हैं, परन्तु लाउडस्पीकरों के शोर के कारण विद्यार्थी पढ़ नहीं पा रहे हैं। सारी रात गाने चलते रहते हैं, जिस कारण बीमार लोगों को आराम नहीं मिल पाता। ये लाउडस्पीकर ध्वनि प्रदूषण को बढ़ा रहे हैं, जो हमारे कानों के लिए नुकसानदायक है।

अतः आप से अनुरोध है कि लाउडस्पीकरों के अनुचित प्रयोग पर रोक लगाई जाए तथा रात आठ बजे के बाद इनका प्रयोग करने वालों को दण्डित किया जाये।

                                                                                                                                             प्रार्थी
                                                                                                                                            XXX
                                                                                                                              मकान संख्या- XXX,
                                                                                                                              इंदिरा नगर,
02 फरवरी, 2014                                                                                                
लखनऊ 

'Letter to Superintendent of Police for restraining the Noise Pollution' in Hindi | 'Dhawni Pradushan ko rokne ke liye Police Adhikshak ko Patra'SocialTwist Tell-a-Friend

0 comments:

Post a Comment