Short Essay on 'Diwali- A Festival of Light' in Hindi | 'Diwali- Prakash ka Tyohar' par Nibandh (330 Words)

Tuesday, December 27, 2016

दीपावली- प्रकाश का पर्व

'दीवाली' हिन्दुओं का प्रसिद्ध त्यौहार है। दीवाली को 'दीपावली' भी कहते हैं। 'दीपावली' का अर्थ होता है - 'दीपों की माला या कड़ी'। यह प्रकाश का त्यौहार है। यह त्यौहार हिन्दू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक माह की अमावस्या को मनाया जाता है। दीवाली में लगभग सभी घर एवं रास्ते दीपक एवं प्रकाश से रोशन किये जाते हैं।

दीपावली के त्यौहार को मनाने के पीछे अनेक पौराणिक कथाएँ प्रचलित हैं। इनमें से एक प्रसिद्ध कथा है की जब भगवान राम, रावण के वध के पश्चात सीता और लक्ष्मण के साथ अयोध्या लौटे तो वो दिन अमावस्या का था। अतः लोगों ने अपने प्रिय राम के स्वागत और अंधेरे को दूर भगाने के लिए पूरे अयोध्या को दीपों से प्रज्जवलित कर दिया था। अतः ये प्रथा तब से चलने लगी। एक अन्य मान्यता के अनुसार इसी दिन धन और संपन्नता की देवी लक्ष्मी, राजा बाली के चंगुल से आजाद हुई थी। अतः लोग इन मान्यताओं के अनुसार पूरे हर्षोउल्लास के साथ देश-विदेश के विभिन्न भागों में दीपावली मनाते हैं।

दीपावली के आने से कुछ दिनों पूर्व से ही लोग अपने घरों की साफ सफाई और रंग रोगन के कार्य में लग जाते हैं। इसके पश्चात लोग घरों पर विभिन्न प्रकार के बल्ब और रंगीन बल्ब से अपने घर बाहर सजाते हैं। घरों में रंगोलियां बनाई जाती है। अनेक प्रकार के पकवान बनाए जाते हैं। हर घर में गणेश-लक्ष्मी की प्रतिमा बिठाई जाती है। फूलों से घरों के प्रवेश द्वार को सजाया जाता है। घरों को दिये जलाकर प्रकाशित किया जाता है। बच्चे-बूढ़े सभी पटाखे छोड़ते हैं।

दीवाली के त्यौहार पर पटाखों के अत्यधिक प्रयोग से वातावरण भी प्रदूषित हो जाता है। अतः हमें पर्यावरण के अनुकूल सामग्रियों से ही इस रोचक पर्व का आनंद लेना चाहिए। पटाखों के प्रयोग के समय सावधानी बरतना चाहिए। जब भी बच्चे पटाखों का प्रयोग करें, साथ में बड़े लोगों को उनका मार्गदर्शन करना चाहिए। हमें दिये, बत्ती और मिठाइयों के साथ जहां तक संभव हो इस पर्व को मनाना चाहिए। तभी त्यौहार का असली आनंद होगा।

Short Essay on 'Diwali- A Festival of Light' in Hindi | 'Diwali- Prakash ka Tyohar' par Nibandh (330 Words)SocialTwist Tell-a-Friend

0 comments:

Post a Comment